ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
यूरिया उर्वरक के सुचारू रूप से वितरण के लिए जिले के सहकारी
October 5, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

होशंगाबाद - 05,अक्‍टूबर,2020/ रबी वर्ष 2020-2021 में यूरिया उर्वरक के सुचारू रूप से वितरण के लिए जिले के सहकारी एवं निजि विक्रय केन्‍द्रो से वैज्ञानिक अनुशंसानुसार कृषको को उनकी जोत सीमा पर प्रति एकड़ 2 बोरी यूरिया एवं भूमि के मान से अधिकतम एक बार में 20 बोरी यूरिया प्रति कृषक प्रदाय की जा सकेगी। सेवा सहाकारी समितियों द्वारा परमिट पर कृषको को उनकी आवश्‍यकता एवं निर्धारित साख सीमा तक प्रति एकड़ 2 बोरी यूरिया प्रदाय की जाएगी। उप संचालक कृषि श्री जितेन्‍द्र सिंह ने उपायुक्‍त सहकारिता, महा प्रबंधक जिला सहकारी केन्‍द्रीय बैंक मर्यादित, जिला विपणन अधिकारी म.प्र. राज्‍य विपणन संघ, जिला प्रबंधक एमपी एग्रो से कहा है कि यूरिया उर्वरक के सुचारू रूप से वितरण हेतु आवश्‍यक कार्यवाही सुनिश्चित करें।उप संचालक कृषि जितेन्‍द्र सिंह ने बताया है कि पीओएस मशीन से कृषक विशेष परिस्थितियों में अधिकतम (परिवार की समग्र आई डी से सत्‍यापन होने पर) 2 बही व आधार कार्ड पर 2 व्‍यक्तियों हेतु यूरिया ले सकता है। कृषको से भूमि संबंधी अभिलेख, भू अधिकारी की छायाप्रति अथवा खसरा की छायाप्रति एवं आधार कार्ड अनिवार्यत: होगी। उन्‍होने संबंधित अधिकारियों से कहा है कि शासन के निर्देशानुसार यूरिया विक्रय उपरांत यह सुनिश्चित करें कि उर्वरक का विक्रय पीओएस मशीन के माध्‍यम से किया जाए एवं विक्रेता केशलेश लेनदेन को ही प्राथमिकता दें तथा उर्वरक वितरण की आवश्‍यक कार्यवाही सुनिश्चित कराई जाए। अनियमितता की स्थिति में संबंधित विक्रेता के विरूद्ध उर्वरक गुण नियंत्रण आदेश 1985 एवं आवश्‍यक वस्‍तु अधिनियम 1955 के तहत। प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट