ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
उत्तराखंड की वीरांगना तीलू रौतेली के जन्म दिवस पर शिक्षा
August 8, 2020 • Aankhen crime par • उत्तराखण्ड

चमोली उतराखड
उत्तराखंड की वीरांगना तीलू रौतेली के जन्म दिवस पर शिक्षा, समाज सेवा, खेल समेत विभिन्न क्षेत्रों बेहतर काम करने वाली महिलाओं, किशोरियों एवं आंगनबाडी कार्यकत्रियों को सम्मानित किया गया।            

 रिपोट  केशर सिह नेगी                  

प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने तीलू रौतेली पुरस्कार प्राप्त करने वाली सभी महिलाओं एवं अपनी क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाली आंगनबाडी कार्यकत्रियों को वीसी के माध्यम से संबोधित करते हुए शुभकामनांए दी। उन्होंने अगले वर्ष से राज्य स्तरीय तीलू रौतेली पुरस्कार की धनराशि 21 हजार से बढाकर 31 हजार तथा आंगनबाडी कार्यकत्री पुरस्कार की धनराशि 10 हजार से बढाकर 21 हजार रुपये करने की घोषणा भी की। राज्य में 21 महिलाओं/किशोरियों को राज्य स्तरीय तीलू रौतेली पुरस्कार तथा 22 आंगनबाडी कार्यकत्रियों को अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने पर राज्य स्तरीय आंगनबाडी कार्यकत्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

चमोली जनपद में दशोली ब्लाक के गडोरा निवासी शशि देवली को राज्य स्तरीय तीलू रौतेली पुरस्कार तथा गैरसैंण ब्लाक के आंगनबाडी केन्द्र पज्याणा में कार्यरत आंगनबाडी कार्यकत्री अंजना रावत को अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्यो के लिए राज्य स्तरीय आंगनबाडी कार्यकत्री पुरस्कार से सम्मनित किया गया। जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया एवं मुख्य विकास हंसादत्त पांडे ने इन दोनों महिलाओं को पुरस्कार धनराशि का चैक, प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह भेंट करते हुए सम्मानित किया और उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी। इस दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी संदीप कुमार एवं नायब तहसीलदार राकेश देवली भी मौजूद रहे।  

साहित्य और समाज सेवा में प्रेरक कार्य करने पर दशोली ब्लाक के गडोरा निवासी शशि देवली ने साहित्य तथा सामाजिक गतिविधियों में उल्लेखनीय कार्य करते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। पीस पब्लिक स्कूल में अध्यापन का कार्य करते हुए शशि देवली विभिन्न मंचों और कवि सम्मेलनों में कविताओं के जरिए सामाजिक हकीकत को बयां करती रही है। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में कविताओं तथा लेखों के माध्यम से वह बेटी बचाओं बेटी पढाओं, मतदान, रक्तदान, स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करती रहती है। कवियत्री एवं अध्यापिका शशि देवली को साहित्यिक गतिविधयों के लिए रचना साहित्य सम्मान, युग सुरभि सम्मान, रचना साहित्य रत्न सम्मान, मां शारदे सम्मान, काब्य गौरव सम्मान, हिन्दी साहित्य सेवी सम्मान, पर्यावरण संरक्षण सम्मान, श्रीदेव सुमन विश्व विद्यालय का सम्मान, साहित्य सारथी सम्मान आदि से पहले नवाजा जा चुका है। शशि देवली की अभी तक विभिन्न कृतियां प्रकाशित भी हो चुकी है।

जबकि गैरसैंण ब्लाक के अंजना रावत ने आंगनबाडी कार्यकत्री के रूप में विभागीय योजनाओं को आम जनता तक पहुॅचाने, आंगनबाडी बच्चों को ट्रैकसूट वितरण, महिलाओं एवं किशोरियों के लिए सेनेट्री पैड एवं कोविड महामारी में वृद्वजनों, महिलाओं एवं बच्चों को मास्क वितरण किया गया। इसके अलावा जलागम प्रबन्धन के अन्तर्गत सामुदायिक प्रयास किए गए। ग्राम्य विकास, स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग की योजनाओं को बेहतर ढंग से क्रियान्वित किया गया। जिला प्रशासन द्वारा पूर्व में उनके उत्कृष्ट कार्यो के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जा चुका है।