ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
शासकीय गृहविज्ञान महाविद्यालय में राष्ट्र पिता महात्मा गांधी जी के 151 वीं जयंती पर
October 6, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

होशंगाबाद- आज दिनांक 06.10.2020 को मध्य निषेध सप्ताह के अंतर्गत प्राचार्य डॉ. कामिनी जैन के दिषा निर्देषन में एनएसएस एवं एनसीसी के तत्वाधान में गांधी दर्षन पर व्याख्यान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का षुभारंभ महात्मा गांधी के प्रतिमा पर मंचासीन प्राचार्य डॉ. कामिनी जैन, डॉ. रामबाबू मेहर, डॉ. रागिनी दुबे, डॉ. आर.बी. शाह, डॉ. कंचन ठाकुर के द्वारा माल्यार्पण कर पूजन अर्चना के साथ हुआ। महाविद्यालय की संपूर्ण गतिविधियों की संरक्षिका प्राचार्य डॉ. कामिनी जैन ने अपने उदबोधन में गांधी जी के जीवन पर प्रकाष डालते हुए कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से संबंधित साहित्य महाविद्यालय के ग्रंथालय में उपलब्ध है छात्राओं को साहित्य का अध्ययन कर गांधीजी के जीवन दर्षन से प्रेरणा लेनी चाहिए। गांधी जी का संपूर्ण जीवन सत्य, अहिंसा जैसे आदर्षों पर आधारित है स्वावलम्बन और आत्म निर्भरता जैसे नैतिक गुणों पर महात्मा गांधी ने भरपूर जोर दिया है एवं भारतीय जन का आवाहन किया है कि आत्म निर्भर भारत ही सम्रध एवं सुदृढ़ होगा। इसी क्रम में कार्यक्रम के मुख्य आकर्षक प्राध्यापक इतिहास विद्वान डॉ. रामबाबू मेहर ने अपने व्याख्यान में महात्मा गांधी जी के जीवन के कई महत्वपूर्ण घटनाओं से अवगत कराया। मंच संचालन करते हुए एनसएस प्रभारी डॉ. ज्योति जुनगरे ने कहा कि विद्यार्थियों को तबाया कि हमें गांधी जी के जीवन के प्रेरक प्रसंगों से प्रेरणा प्राप्त कर प्रगति पथ पर आग्रसर होना चाहिए। आभार व्यक्त करते हुए एनएसएस प्रभारी इकाई-2 डॉ. हर्षा चचाने ने छात्राओं को शपथ दिलाई कि हमें गांधी जी के दिये हुये संदेषों का पालन करना चाहिए। इस अवसर पर एनसीसी प्रभारी डॉ. संगीता पारे श्रीमती किरण विष्वकर्मा, डॉ. कीर्ति दीक्षित, कु. षिवानी अवसरे, मनीषा यादव प्रियंका बरखने, निकीता यादव, रामप्यारी, राधा सौम्या, अंजली, दीपषिखा, पूनम, दिक्षा कविता, मनीषा चौधरी, संगीता चौधरी, निषा अहिरवार, कोमन कैथवास, भारती चौधरी, आरती पटेल, षिखा पटले, तनवीर पवैय्या आदि स्वयं सेविकाएं उपस्थित थी।
प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट