ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
प्रधानमंत्री फसल बीमा का बीमांकन की अंतिम तिथि आज
August 30, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश
प्रधानमंत्री फसल बीमा का बीमांकन की अंतिम तिथि आज
-
पन्ना | 30-अगस्त
 
 
 
    कलेक्टर श्री संजय कुमार मिश्र द्वारा जिले के खेतीहर किसानों से अपील करते हुए कहा है कि जिले के शत प्रतिशत किसान 31 अगस्त 2020 तक प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 2020-21 के तहत अपना बीमांकन कराएं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का उद्देश्य प्राकृतिक आपदाओं से फसल की क्षति होने पर बीमित कृषकों को क्षतिपूर्ति उपलब्ध कराकर वित्तीय समर्थन प्रदान किया जाता है। जिससे कृषक कृषि व्यवसाय में जुड रहे और उन्नति तकनीकी का उपयोग कर अधिक लाभ कमा सके।
    इस योजना में ऋणी कृषक से प्रीमियम संबंधित बैंक के द्वारा ऋण राशि से काटकर बीमा कम्पनी निर्धारण उपरांत प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के पोर्टल पर संबंधित कृषक की जानकारी अपलोड कर दी जाती है। वहीं कृषक अंश का भुगतान चयनित बीमा कम्पनी को दिया जा सकता है। अऋणी कृषक की श्रेणी में संबंधित कृषक के द्वारा किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक अथवा सहकारी बैंक में जाकर आवश्यक औपचारिकताएं पूर्ण कर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है। फसल बीमा के लिए फसल बीमा प्रस्ताव फार्म, आधार कार्ड, पहचान पत्र जैसे वोटर कार्ड, राशन कार्ड, पेन कार्ड, आधार कार्ड, समग्र आईडी, ड्राइविंग लाईसेंस आदि भू अधिकार पुस्तिका, बुवाई प्रमाण पत्र, पटवारी अथवा ग्राम पंचायत सचिव के द्वारा जारी प्रस्तुत करना पडता है। सभी किसानों को आधार कार्ड एवं मोबाईल नम्बर देना अनिवार्य है।
    इसके अलावा आपके क्षेत्र की बीमा कम्पनी के निर्धारण के उपरांत कियोस्क के माध्यम से भी कृषक फसल बीमा का पंजीयन करा सकेंगे। प्रधानमंत्री योजना के माध्यम से बीमित रखने की फसल तथा राजस्व विभाग की गिरदावरी रिपोर्ट में उस क्षेत्र की रकवे की फसल भिन्न रहती है जिसके कारण किसान को बीमा राशि पर area correction factor  (क्षेत्र सुधार कारक) होने की संभावना रहती है। जिससे दावा राशि प्रभावित होती है। इसलिए राजस्व विभाग के आंकडे तथा फसल बीमा योजना के तहत बीमित क्षेत्र के आंकडों में भिन्नता न हो इसका ध्यान रखा जाए।