ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
फसल खराब होने से किसान व्यक्तिगत बीमा ले सकते हैं,दिनेश यादव एडवोकेट
September 1, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

फसल खराब होने से किसान व्यक्तिगत बीमा ले सकते हैं,दिनेश यादव एडवोकेट
इटारसी  प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत ऐसे किसान जिनकी खरीफ फसल अधिक वर्षा होने से जलभराव के कारण खराब हो चुकी है कृषि विभाग में बीमा कंपनी को व्यक्तिगत आवेदन देकर अपनी फसल नुकसानी का बीमा क्लेम कर सकते हैं। अधिवक्ता दिनेश यादव प्रेस नोट जारी कर बताया कि वर्षा के कारण किसानों के खेतों में जो नदी नाले के किनारे हो या रेला हो डबरा हो जमीन में जलभराव होने के कारण फसल खराब हो जाती है। ऐसे किसान भले पूरे गांव की फसल अच्छी है एक किसान भी व्यक्तिगत आवेदन बैंक प्रबंधक जहां उसका केसीसी खाता है एवं कृषि विभाग खरीफ वर्ष 2020 के लिए अनुबंधित राष्ट्रीय कृषि फसल बीमा कंपनी एवं तहसीलदार को आवेदन में बीमा प्रीमियम राशि कृषि भूमि का रकबा केसीसी खाता नंबर की जानकारी के साथ 72 घंटे के अंदर आवेदन देकर व्यक्तिगत बीमा क्लेम कर सकता है।ऐसे किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रावधानों के अनुसार 15 दिन में सर्वे वा बीमा क्लेम राशि का निर्धारण कर 21 दिन में किसान को भुगतान किया जाता है इस प्रकार के आवेदन देने वाले किसानों का किसी भी बैंक या सहकारी समिति में फसल बीमा प्रीमियम की राशि ऋणी आऋणी कृषक के रूप में जमा होना जरूरी है। इस प्रकार के आवेदनों में किसानों को दो सावधानी अत्यंत आवश्यक है। एक आवेदन दिनांक के 72 घंटे के अंदर जलभराव से फसल खराब होना दर्शाना आना चाहिए दूसरा व्यक्तिगत क्षतिपूर्ति फसल बीमा क्लेम के अंतर्गत फसल खराब होने का कारण जलभराव ही लिखना चाहिए वर्तमान में जिन किसानों की भी सोयाबीन फसल खराब हुई है वे सभी किसान राजस्व विभाग के सर्वे की चिंता किए बगैर व्यक्तिगत सूचना देकर बीमा क्लेम कर सकते हैं। मनमोहन यादव एसीपी न्यूज़