ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
नई शिक्षा नीति पर आयोजित तीन दिवसीय कार्यशाला में प्राप्त सुझावों को केन्द्रीय समन्वय समिति के माध्यम से अमल हेतु भेजा जायेगा
August 31, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश
नई शिक्षा नीति पर आयोजित तीन दिवसीय कार्यशाला में प्राप्त सुझावों को केन्द्रीय समन्वय समिति के माध्यम से अमल हेतु भेजा जायेगा
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पर तीन दिवसीय कार्यशाला सम्पन्न
इन्दौर |
 
            नई शिक्षा नीति को समाज में एवं छात्रों के बीच विस्तृत रूप में रखने के लिए नेहरू युवा केंद्र इंदौर (युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार) तथा मित्र मेला वेलफेयर सोसाइटी द्वारा तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला अयोजित की जा रही है। जिसमें आज  तीसरे एवं अंतिम दिन दो सत्र आयोजित किये गये। नई शिक्षा नीति के 5+3+3+4 की संकल्पता विषय पर विभिन्न वक्ताओं ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये।
            कार्यक्रम में आई.आई.एम. इंदौर के निदेशक डॉ हिमांशु राय ने "भारतीय ज्ञान परंपरा और एनईपी 2020" विषय में विस्तार से बताया। उन्होंने भारतीय ग्रन्थों की कथनों के माध्यमो से आने वाली शिक्षा नीति को जोड़ते हुए ज्ञान परंपरा को बताया। साथ ही कहा नई शिक्षा नीति थोपने की नहीं अपितु ज्ञान को बाटने की नीति है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य डॉ सचिन शर्मा ने प्रकाश डाला। उन्होंने नई शिक्षा नीति में विद्यालय शिक्षा व्यवस्था में आने वाले बदलावों को बताया।
             राष्ट्रीय कार्यशाला के समापन कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ विवेक आर्य ने की। समापन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में इंदौर सांसद श्री शंकर लालवानी मौजूद थे। उन्होंने आयोजकों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि  नेहरू युवा केन्द्र इंदौर तथा मित्र मेला जैसे संगठन, समाज में एक सकारात्मक परिवर्तन लाने की शक्ति रखते है। प्राप्त सुझावों के निष्पादन में यथा सहयोग करेंगे।
             समापन कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रांत सह कार्यवाह श्री विनीत जी नवाथे भी उपस्थित थे। जिला युवा अधिकारी नेहरू युवा केन्द्र श्रीमती तारा पारगी, श्री विजय यादव एवं इस अभियान में मित्र मेला के साथ ही नेहरू युवा केन्द्र के युवा स्वयं सेवक, युवा मंडल के सदस्य पदाधिकारी उपस्थित थे।