ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
कोरोना पॉजिटिव मरीज इलाज के नाम पर खिलवाड़
September 14, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

कोरोना पॉजिटिव मरीज इलाज के नाम पर खिलवाड़


नर्क जैसी व्यवस्थाएं से दुखी होकर कोरोना पॉजिटिव मरीज की छुट्टी करा कर ले गए परिजन

कन्नौद: जिला चिकित्सा अधिकारी देवास के द्वारा कोरोना पॉजिटिव की सूची में कन्नौद- बेहरवद  4 मरीजों की जानकारी है। ग्राम बेहरावद निवासी शिव कुमार जोशी भी कोरोना पॉजिटिव थे जिनको कन्नौद शासकीय अस्पताल के कोरोना चिकित्सा दल के द्वारा उपचार के लिए कन्नौद कोविड सेंटर लाया गया अव्यवस्थाओं के कारण वृद्ध मरीज को 3 घंटे बैठने के बाद परेशान होकर परिजनों के द्वारा डॉक्टरों से निवेदन करने के बाद उन्हें परिजनों की जिम्मेदारी पर घर ले जाने के लिए छुट्टी दे दी, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बताया गया कि कन्नौद ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉ. विवेक अहिरवार के द्वारा परिजनों से लिखवा कर ले लिया गया कि हम अपनी मर्जी से कोरोना पॉजिटिव मरीज को लेकर जा रहे हैं। मरीज के परिजनों ने बताया कि इतनी घटिया व्यवस्थाएं हैं की मेरे पिताजी वृद्ध होकर टाइफाइड भी है दोपहर की 2:00 बजे तक  उन्हें कोई उपचार नहीं किया गया। कोविड़ सेंटर के मरीजों के बिस्तर और पलंग की व्यवस्था है। आप फोटो में देख ही रहे हैं की मरीजों के साथ किस प्रकार खिलवाड़ किया जा रहा है। कोरोना मरीजों के उपचार के नाम पर सरकार करोड़ों रुपए खर्चा करने के बाद भी व्यवस्थाओं में सुधार नहीं आ रहा है।सरकार कोरोना मरीजों के इलाज को लेकर भेदभाव बरत रही है बड़े पदों पर बैठे लोग कोरोना संक्रमित पाए जाने पर पांच सितारा होटलों जैसे सुविधा संपन्न अस्पतालों में सरकारी खर्च पर भर्ती किए जा रहे हैं वहीं कोरोना संक्रमित आम आदमी सरकारी अस्पतालों की नारकीय व्यवस्था से जूझ रहा है और तंग होकर भागने को मजबूर है आमतौर पर कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ कांजी हाउस के जानवरों की तरह व्यवहार होता है।आमतौर पर सरकारी अस्पतालों में सामान्य सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं है जिसके चलते कोरोना संक्रमित मरीजों की दशा बद से बदतर हो जाती है,  सरकार के दोहरे मापदंड मानवता के साथ क्रूर खिलवाड़ है सामान्य व्यक्ति के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर उसके साथ अपराधियों जैसा सलूक किया जाता है,और उस पर कोरोना फैलाने का आरोप भी जड़ दिया जाता है जबकि बड़े लोगों के कोरोना संक्रमित होने पर उन पर इस तरह के आरोप नहीं लगाए जाते बल्कि उन्हें मनचाहे अस्पताल में भर्ती कराकर उनकी नियमित स्वास्थ्य बुलेटिन जारी की जाती है और जनता के नाम उनका संदेश भी जारी किया जाता हैl क्या क्षेत्र के जनप्रतिनिधि एवं राज्य व जिले के अधिकारी उपरोक्त मामले को संज्ञान में लेकर अव्यवस्थाओं व कोरोना पॉजिटिव मरीज की छुट्टी करा कर ले जाने की मामले की  जांच करेंगे?

नरेंद्र सिंह धुर्वे एसडीएम कन्नौद
कोविड सेंटर की अव्यवस्थाओं को लेकर कहां की कोरोना के हर मरीज की बहुत ठीक तरह तरह से देखभाल की जा रही है इलाज के पर्याप्त संसाधनों के साथ-साथ मनोरंजन के लिए टीवी  भी उपलब्ध कराए गए हैं। कोरॉना पॉजिटिव मरीज को घर ले जाने को लेकर कहा की ग्राम बेहराबद के मरीज को होम क्वॉरेंटाइन किया गया है।

डॉ विवेक अहिरवार ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर कन्नौद
कोरोना पॉजिटिव मरीज के उपचार को लेकर माकूल व्यवस्थाएं है, परिजनों ने इंदौर इलाज कराने को लेकर मरीज की छुट्टी करा कर ले गए हैं covid- 19 नई गाइडलाइन के अनुसार मरीज को अपनी सुविधा के अनुसार इलाज कराने का हक

कन्नौद से श्रीकांत पुरोहीत की रिपोर्ट