ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
खातेगांव वन परिक्षेत्र के जंगल मे चल रहा जंगलराज, लकड़ी माफिया सागवान के पेड़ों की कर रहे अवैध कटाई
September 10, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

कन्नौद खातेगांव वन परिक्षेत्र के जंगल मे चल रहा जंगलराज, लकड़ी माफिया सागवान के पेड़ों की कर रहे अवैध कटाई, ओर जिम्मेदार शहर में रहकर कर रहे जंगल की सुरक्षा के दावे। जब उच्च अधिकारियों ने कराई जाँच तो जिम्मेदारों की खुली पोल। वही विधायक शर्मा ने लापरवाह वनकर्मियों के खिलाफ पत्र लिख कर कार्रवाई की बात कही।

खातेगांव के जंगल में हो रही बेशकीमती सागवान के पेड़ों की अवैध कटाई। जिम्मेदार वनकर्मी शहर में बैठकर कर रहे जंगल की सुरक्षा के दावे। खातेगांव क्षेत्र के मनोरा बीट में लकड़ीमाफ़ियाओ ने सागौन के कई विशालकाय पेड़ो को काट कर ठूँठ में तब्दील कर दिया। ओर जिम्मेदार वनकर्मी को होश तक नही है। जंगल की पड़ताल की तो देखा कि जंगल मे भारी मात्रा में करीब 30 से 35 सागौन  के ठूँठ, जिन पर  नम्बर भी अंकित नही है।

आपको बता दे यह कटे हुए ठूंठ लगभग 15 से 20 दिन पुराने है। जिन्हें वन विभाग के जिम्मेदारों ने मोके पर जाकर नम्बर तक अंकित नही किये। इससे यह स्पष्ट होता है कि मनोरा सब रेंज में नाकेदार, डिप्टी रेंजर व रेंजर ने जंगल मे जाने की जहमत ही नही उठाई। इन विशालकाय सागवान के पेड़ो की धड़ल्ले से की गई अवैध कटाई वरिष्ठ अधिकारियों की लापरवाही बयां कर रही है, यदि इसी तरह जंगल मे पेड़ो की अवैध कटाई होती रही तो वह दिन दूर नही जब आने वाली पीढ़ी जंगल देखने को तरसेगी।
जब इस बारे में मनोरा सब रेंज के डिप्टी रेंजर सुगर सिंह राजपूत से पूछा की आपके जंगल मे लकड़ियां कटी हुई है, तो उनका कहना था कि मेरे जंगल में लकड़ी कटने का कोई मामला नही है। 

 

इधर मामले में उच्च अधिकारियों ने जांच दल गठित कर जंगल की जाँच करवाई तो वास्तव में कटे हुए पेड़ो के ठूंठ जंगल मे पाए गए। जिन पर कोई नम्बर भी अंकित नही पाए गए। इससे यह स्पष्ट हो गया कि जिम्मेदार वन अमले की लापरवाही के चलते पेड़ो की अवैध कटाई हुई है। अब देखना बड़ा ही लाजिमी होगा कि उच्च अधिकारी इस मामले में जीम्मेदारो पर क्या कार्रवाई करते है। या फिर मामले को गोलमाल कर दिया जाएगा।

 इसको लेकर विधायक आशीष शर्मा ने भी सख्त लहजे में हिदायत दी है, ओर वर्षों से जमे वनकर्मीयो का स्थानांतरण करने की बात कही। साथ ही लापरवाह जिम्मेदार फारेस्ट कर्मचारियों के खिलाफ पत्र लिखकर कड़ी कार्रवाई करने की बात कही।

 

कन्नौद से श्रीकांत पुरोहीत की रिपोर्ट