ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
कौशाम्बी व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में जिला कारागार,
June 30, 2020 • Aankhen crime par • उत्तरप्रदेश

दिनांक 30.06.2020 को जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, कौशाम्बी व जिला विधिक सेवा
प्राधिकरण के तत्वाधान में जिला कारागार, जनपद-कौशाम्बी में निरूद्ध बन्दियों को ’प्ली बारगेनिंग’ विषय पर
विडियों कान्फ्रेसिंग द्वारा विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।

शिविर की अध्यक्षता जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, कौशाम्बी के प्रभारी सचिव विजय कुमार
तृतीय द्वारा की गयी। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, कौशाम्बी के प्रभारी सचिव विजय कुमार तृतीय ने विडियों
कान्फ्रेसिंग द्वारा शिविर में उपस्थित बन्दियों को दण्ड प्रक्रिया संहिता में दिये गये प्रावधान प्ली बारगेनिंग के
विषय में विस्तार से अवगत कराते हुए बताया कि इस प्रावधान का लाभ ऐसे मामलों में लिया जा सकता है जिसमें
सात वर्ष तक की सजा का प्रावधान है। इस प्रावधान का लाभ लेने से अनावश्यक व्यय व समय की बचत होगी
तथा साथ ही न्यायालयों में लम्बित मुकदमों की संख्या में कमी आयेगी। तथा परिवादी/लोक अभियोजक तथा
अभियुक्त के मध्य हुये प्ली बारगेनिंग के आधार पर तय शर्तों का न्यायालय द्वारा अवलोकन करने के पश्चात
विधि अनुसार सम्बन्धित आरोपित अपराध के सम्बन्ध में नियमानुसार आदेश/निर्णय पारित किया जाता है जो
अन्तिम होता है। उक्त अन्तिम आदेश/निर्णय के विरूद्ध अपील केवल संविधान के अनुच्छेद 136 अन्तर्गत या
226, 227 के अन्तर्गत ही विशेष परिस्थितियों में हो सकता है। जेल अधीक्षक बी.एस. मुकुन्द ने बन्दियों को जेल
में जेल मैनुअल के अनुसार मिलने वाली विभिन्न सुविधाओं के बारे में बताया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण,
कौशाम्बी के प्रभारी सचिव विजय कुमार तृतीय द्वारा शिविर में उपस्थित बन्दियों की व्यक्गित समस्याओं को सुना
गया और उनकी समस्याओ के निस्तारण करने का तरीका भी बताया गया।