ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
कर्मचारियों की उचित मांगों के निराकरण को लेकर मजदूर संघ ने लिये गये निर्णय, 
October 4, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

होशंगाबाद - कर्मचारी मजदूर संघ के कार्यकारी अध्यक्ष महेशकुमार वर्मा ने बताया है कि मजदूर संघ की बैठक राजेन्द्र उपाध्याय की अध्यक्षता में रखी गई बैठक में पुनः एक बार भारतीय मजदूर संघ के जिला अध्यक्ष स्वर्गीय इंद्र दत्त दुबे जी को याद कर दो मिनिट का मौन धारण कर उनकी आत्मा को मां नर्मदा और श्री हरि अपने चरणों में स्थान दे यह प्रार्थना की गई बैठक में कोरोना महामारी के नियम का पूर्ण पालन करते हुये कर्मचारियों की उचित मांगे में जल प्रदाय विभाग व अन्य कर्मचारियों को साप्ताहिक व अन्य अवकाशों के लाभ से वंचित हैं, दैनिक वेतन से विनियमितिकरण व नियमितीकरण, धूम्र पान के नाम पर कर्मचारियों के वेतन से काटे गए 500/-रूपय, मासिक वेतन राशि पर्ची का प्रति माह कर्मचारियों को वितरण, भारतीय संविधान अनुच्छेद 23 की अवमानना में किरामोन्नति, पदोन्नति, मंहगाई भत्ता, सातवें वेतनमान की अंतरऱाशि, कार्य की गणना, पीआईसी बैठक दिनांक 23/07/2013 पूर्ण परिपालन, कर्मचारियों के मासिक वेतन से कटौती करने के बाद भी उनके जीपीएफ, एनपीएस, ईपीएफ का जमा नही करना, सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 की लगातार अवहेलना में प्रथम अपीलीय आदेशो की अवमानना, संघ कार्यालय जिसकी स्वीकर्ति नगरपालिका परिषद् के पार्षद गण वर्ष 1995 की परिषद् ने दी थी संघ कार्यालय देने की अवमानना, कर्मचारी हित की मांगो का अनदेखी कर वार्ता के लिए न बुलाना इत्यादि कई मुद्दो पर चर्चा की गई, इन सभी मांगो की पूर्ति को लेकर कर्मचारी हित में प्रार्थना मांग पत्र  दिये गए लंबी समय अवधि के बाद लगातार अनदेखा करने पर निर्णय लिया गया कि पुनः 15 दिवस की समयावधि का समय देकर मांग पत्र दिया जावे इसके बाद नगरपालिका प्रशासन अनदेखी व अवमानना करता हैं तो ट्रेड यूनियन अधिकार के अंतर्गत आंदोलनकारी गतिविधि संघ के द्वारा किये जाने की सूचना शासन को देकर परिपालन किया जायेगा कोरोना महामारी काल में नियमावली तोड़ने के लिए नगरपालिका प्रशासन का पूर्ण दायित्व रहेगा, आगे चर्चा में कहा गया कि नगरपालिका में प्रशासक, नगरपालिका सीएमओ ही आज सर्वे सर्वा हैं प्रशासन काल में तो शासन के आदेशो का परिपालन किया जाता है जबकि परिषद काल में तो जन प्रतिनिधि निरंतर शासन आदेशो की अवमानना करते हैं लेकिन प्रशासन काल में कर्मचारी हितो का शोषण किया जायेगा ऐसी संघ को उम्मीद नहीं थी क्योंकि प्रशासनिक अधिकारी भी कर्मचारी होते हैं वह कर्मचारियों का दुख दर्द जानते हैं  कर्मचारियों की जायज मांगो की लगातार अनदेखी अवमानना पर संघ को प्रशासन  के द्वारा विवश बाध्य किया गया तो नगरपालिका प्रशासक, नगरपालिका सीएमओ के व्यक्तिगत नाम से पुलिस प्रशासन में एआईआर , व माननीय् न्यायालय जबलपुर में याचिका दायर की जाती हैं तो उसका संपूर्ण दायित्व नगरपालिका प्रशासन का होगा मजदूर संघ का नहीं, बैठक में मजदूर संघ के दाताराम सगर, लक्छीनारायण माझीं, जीतेंद्र चंद्रबेल,मनीष स्वामी, भागीरथ वर्मा, चंद्रशेखर, सुखदेव भार्गव, रविशंकर तिवारी, बाबूराव, ओम प्रकाश रावत, इत्यादि कर्मचारी गण उपस्थित थे। प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट