ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
जिला न्यायालय में नवनिर्मित चाईल्ड फ्रेन्डली कोर्ट भवन का ई-लोकार्पण किया गया
August 26, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

होशंगाबाद- मंगलवार को जिला न्यायालय परिसर में नव निर्मित चाईल्ड फ्रेन्डली कोर्ट भवन का मुख्य न्यायाधिपति मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय जबलपुर अजय कुमार मित्तल ने ऑन लाइन ई-लोकार्पण न्यायमूर्ति  संजय यादव एवं राजीव कुमार दुबे की गरिमामय उपस्थिति में किया। इस अवसर पर रजिस्ट्रार जनरल राजेन्द्र वाणी एवं जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंद्रेश कुमार खरे उपस्थित रहे। विशेष न्यायाधीश पास्को एक्ट सुरेश कुमार चौबे ने बताया कि चाईल्ड फ्रेन्डली कोर्ट में पीडि़त बालकों को गवाही के लिए आने वाले बच्चो को पारिवारिक माहौल मिलेगा, ताकि वे बिना डर के बयान दे सकेंगे। इस न्यायालय को बच्चों के अनुरूप तैयार किया गया है। इसमें बच्चो के मनोरंजन हेतु खिलौने भी रखे गये हैं। न्यायालय में इस तरह की व्यवस्था रहेगी कि बच्चो को ओरापी नही देख सकेंगे और बच्चे अपनी गवाही बिना डर के दे सकेंगे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में इस तरह का प्रथम कोर्ट है। जिला न्यायालय होशंगाबाद को चाइल्ड फ्रेन्डली कोर्ट का मिलना बेहद ही सुखद है। उन्होंने बताया कि उच्चतम न्यायालय ने सभी राज्यो में ऐसे न्यायालय खोलने के आदेश दिये है जिसके तारतम्य में इस न्यायालय की स्थापना हुई है। इस अवसर पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंद्रेश कुमार खरे ने अपने उद्बोधन में कहा कि इस न्यायालय में विचारणीय प्रकरणो में न्यायाधीश को पीडि़त बच्चों के साथ अपने बच्चों की तरह व्यवहार करना चाहिए और ऐसे मामलो में संवेदनशीलता बेहद जरूरी है। साथ ही न्यायालय में गवाही के लिए आने वाले बच्चों को बिल्कुल पारिवारिक माहौल दिया जाये। नव निर्मित भवन में बच्चो एवं अभिभावको के बैठने के लिए सोफे लगवाये गये है, दीवार पर कॉर्टून बनवाये गये है तथा जलपान हेतु पेंट्री एवं शुद्ध पेयजल की व्यवस्था की गई है और खेलने के लिए खिलौने भी रखे गये हैं। उक्त भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में विशेष न्यायाधीश जेपी सिंह, प्रथम अपर जिला न्यायाधीश सचिन शर्मा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट हिमांशु कौशल, जिला रजिस्ट्रार विजय पाठक तथा अन्य न्यायाधीश भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम में अभिभाषक संध के अध्यक्ष प्रदीप चौबे एवं सचिव हेमंत ठाकुर भी उपस्थित रहे।   
प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट