ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
जिला कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के टोल-फ्री नंबर 1075 एवं 1800-233-8045 पर प्राप्त करें कोविड-19 से संबंधित जानकारी
October 13, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश
जिला कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के टोल-फ्री नंबर 1075 एवं 1800-233-8045 पर प्राप्त करें कोविड-19 से संबंधित जानकारी
-
छिन्दवाड़ा | 13-अक्तूबर
 
 
    कलेक्टर श्री सौरभ कुमार सुमन के मार्गनिर्देशन में जिला स्तर पर सर्वसुविधायुक्त कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर स्थापित किया गया है। इसी तरह विकासखंड स्तर पर भी कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर बनाये गये हैं। कंट्रोल सेंटर 24x7 घंटे के लिये संचालित है। इस सेंटर में स्टॉफ सहित चिकित्सक एवं सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किये गये हैं। डिस्ट्रिक्ट कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में मरीजों एवं उनके परिजनों व आम जन के लिये बी.एस.एन.एल.लेंडलाईन से हेल्प लाईन टोल-फ्री नंबर 1075 एवं अन्य मोबाईल से टोल-फ्री नंबर-1800-233-8045 की सुविधा दी गई है। आम जन इन टोल-फ्री नंबरों के माध्यम से कोविड-19 से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। 
      डिस्ट्रिक्ट कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के नोडल अधिकारी श्री जी.एल.साहू ने बताया कि होम आईसोलेटेड मरीजों को हेल्प डेस्क के माध्यम से प्रतिदिन सुबह शाम वीडियो कॉलिंग कर चिकित्सक द्वारा स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली जाती है। डिस्ट्रिक्ट कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से जबलपुर संभाग के आयुक्त, जिला कलेक्टर एवं वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सीधे होम आईसोलेटेड मरीजों से वीडियो कॉलिंग से बात कर स्वास्थ्य संबंधी जानकारी लेकर उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिये शुभकामनायें दी जाती है। उन्होंने बताया कि विकासखंड स्तर पर भी कोविड कंट्रोल रूम बनाये गये हैं। होम आईसोलेटेड मरीजों से विकासखंड स्तर से 2 बार एवं जिले से सीधे 2 बार वीडियो कॉलिंग की जाती है। यह व्यवस्था सिर्फ पूरे प्रदेश में छिन्दवाड़ा में ही है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री गजेन्द्र सिंह नागेश द्वारा प्रतिदिन कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की सतत् निगरानी कर बेहतर संचालन के लिये दिशा-निर्देश दिये जाते है, परिणामस्वरूप जिले में होम आइसोलेटेड मरीज स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हो रहे है। जिले में कुल 583 होम आइसोलेटेड मरीजों में से 428 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं। होम आईसोलेटेड मरीजों को शासन द्वारा मेडिसिन किट, सर्जिकल मास्क, सेनेटरी किट प्रदाय की जाती है। साथ ही मरीजों को स्वयं के व्यय पर थर्मामीटर, आक्सीमीटर खरीदने की सलाह दी गई है।