ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
जेबीसी मशीन से छायादार हरेभरे वृक्ष काटने समिति की दीवाल तोड़ने रोक लगाने की मांग,
October 15, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

जेबीसी मशीन से छायादार हरेभरे वृक्ष काटने समिति की दीवाल तोड़ने रोक लगाने की मांग,

होशंगाबाद- कलेक्टर धनंजय सिंह, तहसीलदार ,कमिश्नर राजस्व एवं आयुक्त सहकारिता भोपाल को दो दर्जन शिकायतों के बाद रसूलिया स्थित भूमि पटवारी हल्का नं.10 में खसरा नम्बर 18/14 एवं 19/16 भूमि के 11 फिट भूभाग पर भाजपा नेता अजय रतनानी द्वारा दो मंजिला विशाल व्यवसायिक परिसर समिति की भूमि पर अतिक्रमण करके तथा राष्ट्रीय राजमार्ग 69 की सीमा में कब्जाकर सड़क क्षैत्र की परिधि में अतिक्रमण करके बनाने पर कार्यवाही न किए जाने के बाद दुबारा जेबीसी मशीन चलवाकर मूर्तिपाण्डाल के नाम पर हरेभरे पेड का काटकर समिति के शिलान्यास पत्थर लगी दीवाल को गिरा देने पर कार्यवाही की मांग नागरिक अधिकार जनसमस्या निराकरण समिति के अध्यक्ष आत्माराम यादव ने कलेक्टर, उपायुक्त एवं डिवीज़नल इंचार्ज मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम से की है। नागरिक अधिकार जनसमस्या निराकरण समिति के अध्यक्ष श्री यादव के अनुसार मामला कलेक्टर महोदय के संज्ञान में उप आयुक्त सहकारिता द्वारा रखे जाने के बाद तीन सालों में कार्यवाही नहीं होने पर अब उक्त अतिक्रमणकर्ता अजय रतनानी अपने मातहमों के माध्यम से समिति के जर्जर भवन एवं भवन के सामने समिति की भूमि पर लगे एक हरेभरे छायादार वृक्ष को 13 अक्टूम्बर 2020 को को जेबीसी मशीन से काटकर समिति की उदघाटन पत्थर लगी दीवाल को गिराकर उक्त करोड़ों रूपये की कीमती भूमि को हटडपने के लिये अतिक्रमण करने पर आमादा था जिसे पूर्व शिकायतकर्ता रामदास पटेल ने रोका तो उनके द्वारा बुजुर्ग श्री पटेल से गालीगलौच की एवं धमकी दी जिसकी शिकायत श्री पटेल ने पुलिस अधीक्षक को लिखित में की है ओर वे अतिक्रमणकर्ता से भयभीत है। अगर उक्त भूमि को अतिक्रमण से नहीं रोका गया तो उक्त बेशकीमती जमीन पर अवैध कब्जा करने वाले लोग समिति के पूर्व सदस्यों एवं शिकायतकताओं के जानमाल के लिये भी नुकसान पहुॅचा सकते है। जिसका एकमात्र कारण अनेक शिकायत के बाद तीन सालों में आपके अधीनस्थों द्वारा अतिक्रमण करने से न रोककर उन्हें संरक्षण देकर अपने कर्तव्यों से विमुख होना है जो भारी भ्रष्टाचार एवं लेनदेन का स्वमेव प्रमाण है। श्री यादव ने आशंका व्यक्त की है की इस करोड़ो रुपए की परिसमापित समिति की भूमि को सहकारिता विभाग के आला अधिकारी दूसरी संस्था को सौंपकर उसके माध्यम से खुर्दबुर्द कराकर अपने दायित्व से मुख मोड़ने के षड्यंत्र में शामिल होकर राजनैतिक दबाव में निर्णय भी ले सकते है। उन्होने तत्काल उक्त ग्राम सुधार सहकारी समिति की अतिक्रमित भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराने तथा अन्यों द्वारा उसकी सम्पत्ति को कब्जाने हेतु दुबारा अतिक्रमण से बचाने हेतु कठोर कदम उठाकर उक्त संस्था की भूमि की सुरक्षित बाउन्ड्री कराने तथा राष्ट्रीय राजमार्ग 69 की सीमा के अतिक्रमण को हटाने पत्र लिखा है। प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट