ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर राजनैतिक विज्ञापन देने से पूर्व प्रमाणीकरण जरूरी
October 18, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश
इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर राजनैतिक विज्ञापन देने से पूर्व प्रमाणीकरण जरूरी
-
रायसेन | 18-अक्तूबर
भारत निर्वाचन आयोग ने विधानसभा उप चुनाव के दौरान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया टी.वी. चौनल्स, केबल नेटवर्क एवं रेडियो चैनल पर राजनैतिक विज्ञापन देने के पूर्व उम्मीदवारों को उनका अनिवार्य रूप से प्रमाणीकरण कराए जाने के निर्देश दिए हैं।
भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिले के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक-142 सांची उपचुनाव लड़ने वाले अभ्यार्थियों, राजनैतिक दल को टीवी चैनल, केबल नेटवर्क, रेडियो एवं एफएम चैनल, सिनेमा हॉल एवं मॉल में राजनैतिक विज्ञापन प्रसारित कराने के पूर्व पंजीकृत राजनैतिक दलों के अभ्यर्थियों द्वारा विज्ञापन के प्रमाणन हेतु प्रसारण तिथि से निर्धारित प्रारूप में कम से कम तीन दिवस पूर्व और गैर पंजीकृत राजनैतिक दलों या स्वतंत्र अभ्यार्थियों को प्रसारण तिथि से कम से कम सात दिन पूर्व निर्धारित प्रारूप में सर्टीफिकेशन हेतु आवेदन प्रस्तुत करना होगा। आवेदन पत्र के साथ प्रचार-प्रसार सामग्री की स्वप्रमाणित मेन स्क्रिप्ट सीडी/कैसेट भी प्रस्तुत करनी होगी। इसके साथ ही प्रसारण चैनल या केवल नेटवर्क का नाम, प्रसारण दिनांक, प्रसारण अवधि की भी जानकारी देनी होगी।
भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्देशों के परिपालन मे राजनैतिक विज्ञापनों के प्रमाणीकरण से पूर्व इसकी संवीक्षा तथा प्रसारण के लिए प्रमाण-पत्र दिए जाने के लिए  जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में जिला स्तरीय मीडिया सर्टिफिकेशन एवं मॉनीटरिंग कमेटी (एमसीएमसी) का गठन किया गया है। यह कमेटी प्राप्त आवेदन पत्रों एवं संलग्न सीडी/कैसेट एवं मेन स्क्रिप्ट का भलीभाँति परीक्षण कर यह सुनिश्चित करेगी कि प्रसारण के लिए प्रस्तुत सामग्री में किसी भी व्यक्ति, धर्म, संप्रदाय, जाति या वर्ग विशेष के विरूद्ध भड़काऊ भाषा का उपयोग तो नहीं किया गया है। साथ ही यह भी देखा जायेगा कि विज्ञापन के प्रसारण से आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन तो नहीं हो रहा है। समिति की अनुशंसा उपरांत विज्ञापनों का प्रमाणीकरण जारी किया जायेगा। आयोग के इन निर्देशों का उल्लंघन होने पर संबंधित राजनैतिक दल अथवा अभ्यार्थी के विरूद्ध नियमानुसार की जायेगी।