ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
होशंगाबाद -इटारसी में उठी नगरपालिका से कोरोना काल में दुकान किराये माफ करने की मांग
August 26, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

,
व्यापारी प्रतिनिधि मंडल ने मुख्य नगरपालिका अधिकारी को ज्ञापन सौपा शहर के व्यापारियों ने नगर पालिका से लॉकडाउन अवधि और उसके बाद भी कोरोना काल में अब तक की करीब छह माह की किराया माफी की मांग की है। संयुक्त व्यापार महासंघ के प्रतिनिधियों ने आज नगर पालिका में प्रभारी सीएमओ को एक ज्ञापन देकर यह मांग की है। संयुक्त व्यापार महासंघ के प्रतिनिधियों ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में मार्च से अगस्त तक व्यापार बुरी तरह से प्रभावित रहा। बंद ने व्यापारियों की आर्थिक स्थिति खराब कर दी।
इसी बीच व्यापार सालभर 75 प्रतिशत का होता है, इन्हीं महीनों में त्योहार, शादियां होती हैं, किन्तु संक्रमणकाल में शासन द्वारा बाजार क्षेत्र को बंद करने से व्यापारियो की आर्थिक हालत बहुत कमजोर हो गयी है। हम व्यापारीगण वर्षों से नगर पालिका परिषद की दुकानों के किरायेदार हैं, तथा समय-समय पर टैक्स-किराया जमा करते हैं। अत: दुकानदारों को संकट की इस घड़ी में राहत प्रदान करते हुए छह माह का किराया पूर्णत: माफ किया जाए। 
इस अवसर पर संयुक्त व्यापार महासंघ के अध्यक्ष दीपक अग्रवाल,किराना व्यापार महासंघ के कार्यकारी अध्यक्ष् व नगर काँग्रेस अध्यक्ष् पंकज राठौर, सयुंक्त व्यापार महासंघ के सहसचिव कन्हैया गुरयानी, सराफा व्यापारी एसोसिएशन अध्यक्ष् ,पूर्व पार्षद यज्ञदत्त गौर, युवा सयुंक्त व्यापार महासंघ के सचिव अर्जुन भोला भी उपस्थित थे। दीपक अग्रवाल,अध्यक्ष् सयुंक्त व्यापार महासंघ कोरोनाकाल में सारा विश्व संकट से जूझ रहा है। इटारसी में भी करीब 16 सौ छोटे-बड़े व्यापारी हैं, जिन्हें लॉकडाउन अवधि से अभी तक दुकानें बंद रहने से लाखों का नुकसान उठाना पड़ा है। हमारी मांग है कि इस छह माह की अवधि का किराया माफ किया जाए। शासन ने ट्रांसपोर्टरों को भी टैक्स माफ करके राहत दी है, हमारा भी हक है, हमने ज्ञापन में यही मांग की है। प्रभारी मुख्य नगर पालिका अधिकारी आर के जोशी ने कहा कि लॉकडाउन काल में दुकानें बंद रहने से व्यापारियों को नुकसान हुआ है, अत: उनका इस अवधि का किराया माफ किया जाए, ऐसी मांग व्यापारियों ने की है। हम इसका प्रस्ताव बनाकर संचालनालय भेजेंगे, कोशिश की जाएगी कि व्यापारियों को कुछ राहत मिले। प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट