ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
होशंगाबाद, आज की महती आवश्यकता डिजीटल साक्षरता,
September 8, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

विश्व साक्षरता दिवस का कार्यक्रम राष्ट्रीय सेवा योजना एवं राजनीति विभाग के तत्वाधान में शासकीय गृहविज्ञान महाविद्यालय में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए छात्राओं एवं महाविद्यालय स्टॉफ के बीच मनाया गया। महाविद्यालय की प्राचार्य ने अपने उद्बोधन में आज की महती आवश्यकता डिजिटल साक्षरता के ऊपर प्रकाश डाला एवं सभी छात्राओं को ऑनलाइन कार्यक्रम से अवगत कराया कार्यक्रम की संयोजक डॉ. अमिता जोशी ने पूरे कार्यक्रम की रूप रेखा को बताते हुए साक्षरता की बारीकियों से सबकों अवगत कराया। इसी अवसर पर डॉ. रागिनी दुबे ने कहा की पुराने समय से आज के युग में बदलते हुए परिवर्तन को अपने अनुभव में सांझा किया डॉ. ज्योति जुनगरे ने कहा कि साक्षर और शिक्षित होने में फर्क होता है। आप अपनी कालोनी, गांव व शहर में रहने वाले लोगों को साक्षर बना कर देश को पूर्ण साक्षर बनाने में योगदान दे सकते हैं। डॉ. श्रुति गोखले ने कहा कि अपने आप को स्वावलम्बी बनाने के लिए डिजिटल साक्षरता से सब को परिचित होना पड़ेगा। इसी अवसर पर आरती रजक एवं कोमल तिवारी स्वयं सेवाका एनएसएस ने अपने विचार रखे और कहा कि ऑनलाइन सिस्टम पर पूरी तरह से अपनाना है। एवं अपने आप को इसके अनुकूल बनाये रखना है। एवं निरंतर नयी टेक्नोलॉजी से परिचित होते रहना है इसी अवसर पर भूतपूर्व राष्ट्रीय एवॉर्ड प्राप्त एनएसएस की स्वयं सेविका कु. सौम्या चौहान ने छात्राओं के हौसला अफजाई के लिए एनएसएस गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन एनएसएस इकाई -1 की प्रभारी डॉ. ज्योति जुनगरे ने किया एवं आभार एनएसएस इकाई-2 की प्रभारी डॉ. हर्षा चचाने ने किया। और कहा कि एनएसएस के माध्यम से हम सभी को अनुशासन में रहते हुए देश के शहर और देश के विकास के लिए कार्य करना है। इस अवसर पर महाविद्यालय की डॉ. आर.बी. शाह , डॉ. कंचन ठाकुर, डॉ कैलाश डोंगरे, किरण विश्वकर्मा, डॉ. रीना मालवीय,  नीलम चौधरी, प्रीति ठाकुर, रफीक अली, डॉ. कीर्ति दीक्षित, शिवानी चौबे, दुर्गा, संगीता, लक्ष्मी, अलका, अनिता, कोमल, विनीता, आरती रजक, अनामिका, आरती कटारे आदि एनएसएस की छात्राएं उपस्थित थी। प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट