ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
घोड़ाडोंगरी ब्लाक अंतर्गत घोघरा गांव में 73 सालो से बिजली और सड़क की समस्या।
September 7, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

बैतूल/सारनी। कैलाश पाटिल

विधानसभा क्षेत्र घोड़ाडोंगरी के ग्राम पंचायत रामपुर के अंतर्गत आने वाले ग्राम घोघरा भतोडी गांव के ग्रामीण आज भी अंधेरे में जीने को मजबुर है। जहां ना ही बिजली हैं और ना ही ग्राम में पहुंचने के लिए पक्की सड़क। जयस संगठन के निरीक्षण में पाया गया की रामपुर पंचायत में घोघरा सहित दो और गांव है जहां बिजली और सड़क नहीं है और इन गांवों की जनसंख्या लगभग तीन हजार है।देश को आजादी मिलने के 73 सालो के बाद भी ग्रामीण अंधेरे में अपना जीवन यापन कर रहे हैं।
समाज सेवी लक्ष्मण नर्रे ने बताया कि ग्राम कई सालों से अंधेरे में रहने को मजबूर है एवं विकास का दम भरने वाली सरकारे भी गांव में अब बिजली की व्यवस्था नहीं करा पाई है। कई मूलभूत सुविधा है जो गांव आने से पहले ही बीच में दम तोड़ देती है। ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्रीय विधायक व शासन प्रशासन को कई बार गांव की समस्या से अवगत कराया गया, लेकिन उन्होंने आज तक गांव की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया। विधायक द्वारा भी मिले हैं तो, सिर्फ आश्वासन! लक्ष्मण मालवीय ने बताया गया कि यहां प्राथमिक और मिडिल स्कूल है परंतु एक ही शिक्षक है। इसके अलावा अन्य प्रभार भी शिक्षक के पास है शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन के लिए शिक्षक सूत्रधार होता है यदि बच्चे शिक्षा से वंचित रह जाएंगे, तो ग्राम का विकास कैसे हो पाएगा। सरकार पंचायतों में बहुत सारी योजनाएं चला रही है। परंतु ग्राम के युवा वर्ग एवं कृषकों को भी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। साथ ही जयस संगठन के कार्यकर्ताओं ने अधिकारों के बारे में बताते हुए कहा कि हमें अधिकारों के साथ कर्तव्यो पर भी ध्यान देना होगा। तभी हमारा ग्राम उन्नति करेगा। इसी दौरान जयस संगठन जिला उपाध्यक्ष रितेश परते, जगदीश नर्रे, लक्ष्मण मालवीय, सचिन, बसंत, हलदार, स्वरूप, संदीप, प्रकाश, व अन्य कार्यकर्ता तथा ग्रामवासी उपस्थित थे।