ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
डायग्नोस्टिक तकनीक द्वारा कृषकों को दी सलाह राजीव यादव
August 24, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

डायग्नोस्टिक तकनीक द्वारा कृषकों को दी सलाह राजीव यादव
इटारसी -आज दिनांक 24 अगस्त को 2020 को किसान कल्याण तथा कृषि विकास के द्वारा इटारसी तहसील के ग्राम पीपलढाना पांडू खेड़ी पथरोटा कूबड़ाखेड़ी, नागपुर कला,देहरी, जुझारपुर एवं गोचीत्तरोदा आदि ग्रामों में  जिला स्तरीय फसल निगरानी दल द्वारा फसलों का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण दल ने कृषि वैज्ञानिक डॉ धनंजय कठल,अनुविभागीय कृषि अधिकारी राजीव यादव, सहायक संचालक कृषि वैज्ञानिक कृषि जवाहरलाल ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी गणेश चौरसिया डी.के . पटेल उपस्थित रहे।
 फसल निरीक्षण के दौरान दल द्वारा पाया गया कि सोयाबीन की फसल में कहीं कहीं राईजोक्टानिया जड़ सडन नामक बीमारी जिसके कारण खेत में कहीं-कहीं सोयाबीन के प्रभावित पौधे पेंच में पीले दिखाई पड़ रहे हैं कृषि वैज्ञानिक डॉ कटहल द्वारा इसके नियंत्रण के लिए बताया गया उसके लिए  2 ग्राम कार्बोन राजिम कार्गो होंडा जिम कार्बोनेडों जिम कार्बोन्डाजिम प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर घोल को प्रभावित क्षेत्र में स्पेयर पंप का नोजल खोलकर प्रभावित पौधों के चारों और डालें जिससे रोग  का विस्तार ना हो सके। सोयाबीन फसल में तना मक्खी का प्रकोप अर्थात सोयाबीन के तने को चीर कर देखने पर लाव लारवा दिखाई दे तो ऐसी स्थिति में किसान भाई उसके नियंत्रण हेतु पूर्व मिश्रित लेंम्ब्डासायलोथिन+थायोमेथाक्साम  नामक दवा 200 मिलीलीटर प्रति लीटर की दर से घोल बनाकर छिड़काव करें ।वही सोयाबीन की फसल में  पण धब्बा रोग का प्रकोप दिखाई देने पर किसान भाई क्लोरोथैलोनील नामक दवा 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर छिड़काव करें ।
धान में ब्लास्ट रोग अर्थात पत्तियो पर नाव के समान धब्बे जिनके चारों ओर भूरा पन दिखाई पड़ता है के नियंत्रण के लिए ट्राईसाईक्लाजोले 1 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर छिड़काव करें। उड़द की फसल में पीला मोजक रोक के नियंत्रण हेतु किसान भाई थायोमेथेक्जाम  1 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर  से घोल बनाकर छिड़काव करें उप संचालक कृषि द्वारा किसान भाइयों से अपील की गई है कि खेतों में जल निकास की उचित व्यवस्था करें जिससे लोगों की व्याधियों का प्रकोप कम किया जा सके।
मनमोहन यादव एसीपी न्यूज़