ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
भीम सेना सारणी टीम ने मनीषा वाल्मीक के दोषियों को तत्काल फांसी देने की मांग की।
October 4, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

भीम सेना सारणी टीम ने मनीषा वाल्मीक के दोषियों को तत्काल फांसी देने की मांग की।

बैतूल/सारनी। कैलाश पाटिल

उत्तर प्रदेश हाथरस की घटना की निंदा पर एवं पीडिता को न्याय दिलाने दोषियों व दोषी पुलिस अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग महामहिम राष्ट्रपति महोदय से भीम सेना ने की है। उत्तर प्रदेश के हाथरस में मनीषा गैंगरेप कांड पर मानवता को तार-तार करने वाली घटना ने संपूर्ण देश को झन्झोर के रख दिया है एवं पूरी मानवता शर्मसार हुई है जिसकी भीम सेना ब्लॉक अध्यक्ष अमजद खान सारणी घोड़ाडोंगरी के पूरी भीम सेना ब्लॉक के पदाधिकारीगण एवं भीम सेना जिला प्रभारी संतोष चौकीकर ने कड़ी निंदा की व दोषियों को फांसी देने की मांग को लेकर महामहिम राष्ट्रपति के नाम पुलिस चौकी प्रभारी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से पांच सूत्रीय मांग कि -

भीम सेना सारणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित बेटी मनीषा वाल्मीक के साथ हुई बर्बरता की घोर निंदा करती है। उत्तर प्रदेश के हाथरस की दलित बेटी मनीषा वाल्मीक के दोषियों को सार्वजनिक रूप से खुले में फांसी देने की मांग की भीम सेना के द्वारा की जाती है। उत्तर प्रदेश की सरकार में दलित परिवार एवं दलित बहू बेटियां सुरक्षित नहीं अतः योगी सरकार को तत्काल बर्खास्त किए जाने की मांग करती है।उत्तर प्रदेश हसरत की पीड़िता मनीषा वाल्मिक के परिवार की कड़ी सुरक्षा की जिम्मेदारी शासन द्वारा ली जाए।
दलित मानव अधिनियम के तहत उत्तर प्रदेश में प्रत्येक दलित परिवार की जिम्मेदारी व कानून का कड़ाई से पालन किया जाए। उपरोक्त 5 सूत्रीय मांगों को लेकर भीम सेना सारणी घोडाडोगरी की पूरी टीम माननीय महोदय जी आप से मांग करती है कि तत्काल संज्ञान में लेते हुए त्वारित कार्यवाही करने के निर्देश दिए जाये साथ ही भारत में दलित समुदाय व परिवार की सुरक्षा की नीति निर्धारित करें ताकि गरीब दलित शोषित परिवार गर्व से सुरक्षित रह सके और कह सके कि हम भारत के मूल निवासी है।

भीम सेना सारनी के भीम सैनिक ज्ञापन सौपते हुए भीम सेना जिला प्रभारी संतोष चौकीकर, भीम सेना ब्लॉक अध्यक्ष अमजद खान, विकास चौकीकर, मनीष मेश्राम, जुनेद कुरेशी, सुरेश सुमन अधिवक्ता, राहुल मासतकर, कमलेश झारे, आषिश खातरकर, दिनेश झरबड़े, प्रभु मसतकर, मुकेश देहरिया, डा० अरविंद भारती, कमलेश झारे, रमेश सातनकर, सिद्धार्थ आठनेरे, सतीश भारद्वाज, लक्ष्मण मोहबे, राघवन जी, दिलीप पंडोले, नंदकिशोर सोनारे, अनिल पाटिल, हरिदास वाघमारे,रितेश कुशवाहा, के पाटिल आदि भीम सेना के भीम सैनिकगण उपस्थित थे।