ALL मध्यप्रदेश उत्तराखण्ड उत्तरप्रदेश राजस्थान छतीसगढ़ दिल्ली हरियाणा महाराष्ट्र तेलंगाना बिहार
आत्महत्या की कोशिश के लिए मुकदमे से रोकने वाले कानून की वैधता पर सुनवाई करेगा SC, कही ये बात
September 11, 2020 • Aankhen crime par • उत्तरप्रदेश

आत्महत्या की कोशिश के लिए मुकदमे से रोकने वाले कानून की वैधता पर सुनवाई करेगा SC, कही ये बात

जब IPC के तहत आत्महत्या की कोशिश को अपराध माना गया है, तब क्या नया कानून बनाकर ऐसा करने वालों को मुकदमे से बचाया जा सकता है? यह सवाल सुप्रीम कोर्ट ने उठाया है। कोर्ट ने आज कहा कि वह मेंटल हेल्थकेयर एक्ट के सेक्शन 115 की वैधता पर सुनवाई करेगा। इस मसले पर सरकार से जवाब दाखिल करने को कहा गया है।
मेंटल हेल्थकेयर एक्ट (2017) के सेक्शन 115 में लिखा है कि कोई व्यक्ति दिमागी परेशानी की वजह से आत्महत्या की कोशिश करता है।इसलिए, उसके ऊपर मुकदमा नहीं चलाया जा सकता, जबकि इंडियन पीनल कोड (IPC) की धारा 309 के तहत आत्महत्या की कोशिश को दंडनीय अपराध माना गया है।इसके लिए 1 साल तक की सजा का प्रावधान है।मेंटल हेल्थकेयर एक्ट के चलते IPC 309 निष्प्रभावी हो गया है।