ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
31अगस्त के वाद बैंको ने वसुला ब्याज,एक साथ ब्याज तथा ई एम आई जमा करने से बिगडी व्यवस्था 
September 3, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

31अगस्त के वाद बैंको ने वसुला ब्याज,एक साथ ब्याज तथा ई एम आई जमा करने से बिगडी व्यवस्था 
मसनगांव- लोन मोरेटोरियम की अवधि समाप्त होने के वाद बैंक ने  ब्याज तथा ई एम आई की किश्ते वसुलाना शुरू कर दी है छह माह तक कोरोना काल के दौरान जिन बैंको ने लोन की किश्त जमा करने की छुट दी थी उन्होने  एक साथ ब्याज तथा ई एम आई की वसुली एक साथ करने से कर्ज लेने वालों पर दोहरी मार पड़ी बैंकों द्वारा जहां एक साथ 6 महीने का ब्याज और लोन की किश्त  जमा करने के लिए दबाव बनाया वही जिनकी सी सी लिमिट वनी हुई थी उनके खातो से एक मुश्त ब्याज काटने से आथिॅक स्थिती गडवडा गई जबकी कर्ज दाताओ को इस दौरान धंधा पानी बंद रहने से नुकसान उठाना पड़ा था इसके वावजुद बैंको के द्वारा एक साथ छह माह का ब्याज वसुलने से ग्राहको को परेशानी हो रही है।ग्राम के छोटे व्यापारियो ने बैंकों से लोन ले रखा है वहीं कई व्यापारियों ने सीसी लिमिट बना रखी है जिनकी विगत अप्रैल माह से लेकर अगस्त तक कोई ब्याज की राशि नही काटी गई बुधवार के दिन जब  राशि वसुल की गई तो  व्यापारियो का स्टीमेट गडवडा गया ग्राम के व्यापारी सलीम शाह ने बताया कि कोरोना काल के दौरान बैंकों से जो राशि उठाई गई थी उसकी ब्याज की राशि एक मुस्त काटने से अतिरिक्त बोझ वढ गया है।जबकी नियमानुसार पुरे ब्याज को किश्तो मे वसुल करना था।जिससे व्यापारी भी अपनी व्यवस्था वनाकर धीरे धीरे लोन तथा ब्याज जमा कर सकता था। वही ग्राम पर एक अन्य व्यापारी मुकेश पटवारे ने बताया कि बैंक द्वारा जिस प्रकार एक साथ राशि काटी गई है उससे विजनेस पर भी असर होगा। कोरोना काल के दौरान अधिकांश समय दुकान बंद रहने से बिक्री पर भी असर पड़ा है जिसके चलते सरकार को पांच माह का ब्याज माफ करना था।
मसनगांव से अनिल दीपावरे  की रिपोर्ट