ALL मध्यप्रदेश उत्तराखंड उत्तरप्रदेश गुजरात,राजस्थान छतीसगढ़,उड़ीसा दिल्ली हरियाणा,पंजाब महाराष्ट्र पंजाब,जम्मू कशमीर बिहार,झारखंड
13 ,अक्टूबर,2020/ रबी सिंचाई वर्ष 2020- 21 हेतु  जिला जल उपयोगिता समिति
October 13, 2020 • Aankhen crime par • मध्यप्रदेश

होशंगाबाद- द्वारा सर्वसम्मति से 20 अक्टूबर से तवा बांध से नेहरों में पानी छोड़े जाने का निर्णय लिया गया। मंगलवार 13 अक्टूबर को कलेक्टर धनंजय सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में  जिला जल उपयोगिता समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिला पंचायत सीईओ मनोज सरियाम, अपर कलेक्टर जी पी माली , अधीक्षण यंत्री जल संसाधन एस के सक्सेना ,अधीक्षक यंत्री एमपीई बी  बीएस परिहार, कार्यपालन यंत्री  आईडी कुमरे, पीयूष शर्मा सहित अन्य अधिकारी एवं किसान भाई उपस्थित रहे। कलेक्टर श्री सिंह ने तवा बांध से पानी छोड़े जाने के पूर्व  मुख्य नहर, उप नहर एवं  अन्य शाखा  नेहरों  की मरम्मत एवं साफ-सफाई का कार्य प्राथमिकता से करने के निर्देश जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को दिए।बैठक में अधीक्षण यंत्री एस के सक्सेना द्वारा बताया गया कि वर्तमान में तवा बांध का जल भराव स्तर 1166 फिट एवं जल की मात्रा 1944 मिलियन क्यूबिक मीटर है। उन्होंने बताया कि तवा बांध परियोजना से वर्ष 2020-21 के लिए होशंगाबाद जिले का प्रस्तावित सिंचाई रकबा लक्ष्य  1,59,277 हैक्टेयर है तथा  हरदा जिले के लिए प्रस्तावित रकबा लक्ष्य 1,02,254 हैक्टेयर है। इस तरह कुल तवा बांध से कुल 2,61,531 हैक्टेयर लक्ष्य प्रस्तावित है ।होशंगाबाद जिले में तवा बांध की बाय तट  मुख्य नहर से पलेवा और तीन पानी आवश्यकता नुसार 99937 हेक्टेयर एवं तवा दाई तट मुख्य नहर से 59334 हेक्टेयर रबी सिंचाई हेतु प्रस्तावित है। जिले के सोहागपुर ,पिपरिया विकासखंड में मध्यम /लघु जलाशयों  से रबी सिंचाई हेतु कुल 3391 हेक्टेयर एवं विकास खंड केसला के लघु जलाशयों से 1592 हेक्टेयर रकबा प्रस्तावित है। बैठक में उप संचालक कृषि जितेंद्र सिंह ने बताया कि जिले में चना एवं गेहूं के बीजों की पर्याप्त उपलब्धता है एवं किसानों को बीजों की लगातार आपूर्ति की जा रही है। जिले में उर्वरकों की भी पर्याप्त उपलब्धता है। उन्होंने किसान भाइयों को  बताया कि शासन के निर्देशानुसार उर्वरकों का विक्रय पीओएस मशीन के माध्यम से किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि तवा बांध से नहरों में पानी छोड़े जाने का निर्णय का अनुमोदन संभाग स्तरीय जल उपयोगिता समिति की बैठक में किया जाएगा।
प्रदीप गुप्ता की रिपोर्ट